Follow by Email

Friday, March 11, 2011

'मुन्नी बदनाम हुई' एक आयटम सॉन्ग नहीं, बल्कि भक्ति-गीत है. क्यूँ?


आपने 'मुन्नी बदनाम हुई' गीत को दर्जनों बार सुना होगा और हर बार सोचा होगा कि यह आयटम सॉन्ग है. पर आपको आश्चर्य होगा कि मनुष्य की कामभावना जगाने वाले इस गीत के पीछे कुछ और ही मतलब छुपा है. दरअसल वासना से अंधे हो चुके इस समाज में जहां ईश्वर के प्रति भक्ति को मज़ाक समझा जाता है, वहाँ इस गीत के द्वारा गीतकार ने वासना के हथियार से  भक्तिभावना को जगाने का अभूतपूर्व प्रयत्न किया है. हम प्रत्येक छंद का विश्लेषण करेंगे और सत्य तक पहुँचने का प्रयत्न करेंगे.


Munni badnaam hui, darling tere liye - 3 times
Munni ke gaal gulabi, nain sharabi, chaal nawabi re
Le zandu balm hui, darling tere liye
Munni badnaam hui, darling tere liye
Munni ke gaal gulabi, nain sharabi, chaal nawabi re
Le zandu balm hui, darling tere liye - 2 times
Munni badnaam hui, darling tere liye - 2 times

यहाँ डार्लिंग कौन है? ज़रा सोचिये. पूरे गीत में मुन्नी का डार्लिंग नहीं दिखता. दिखेगा भी कैसे! इंसान होगा तब तो दिखेगा. यहाँ मुन्नी के डार्लिंग साक्षात कृष्ण हैं. कन्हैया के प्यार में सैकड़ों वर्ष पहले मीरा बदनाम हुई थी. आज मुन्नी हो रही है. भक्तिभाव से मदहोश होने के कारण उसके गाल गुलाबी, नैन शराबी और चाल नवाबी हो गए हैं. साथ ही वह झंडू बाम भी हो गयी है. मतलब झंडू बाम की तरह दुनियादारी से त्रस्त लोगों के जीवन में आराम पहुंचाने वाली औषधि का काम कर रही है.


Shilpa sa figure Bebo si adaa, Bebo si adaa
Shilpa sa figure Bebo si adaa, Bebo si adaa
Hai mere jhatke mein filmi mazaa re filmi mazaa
Haye tu na jaane mere nakhre ve
Haye tu na jaane mere nakhre ve laakhon rupaiya udaa
Ve main taksaal hui, darling tere liye
Cinema hall hui, darling tere liye
Munni badnaam hui, darling tere liye - 2 times

पर हम यहाँ यह ना भूल जाएं कि मुन्नी एक साधारण स्त्री भी है. कन्हैया के प्रति उसके प्रेम में सांसारिक प्रेम का अंश भी है. इसलिए वह महान  प्रेमी कृष्ण को रिझाने के लिए अपने शारीरिक सौंदर्य का वर्णन करती है. वह बताती है  कि उसके नखरों ने लाखों प्रेमियों को लाखों रुपये उड़ाने के लिए प्रेरित किया है. अगर भगवान कृष्ण यह गीत सुन रहे होंगे तो मुन्नी की इस निर्दोष अदा पर ज़रूर मुस्कुरा रहे होंगे.


O munni re, o munni re
Tera gali gali mein charcha re
Hai jama ishq da ishq da parcha re
Jama ishq da ishq da parcha re
O munni re

यहाँ भक्ति-भाव का दूसरा पक्ष सामने आता है. जिस तरह मुन्नी कृष्ण की भक्ति में लीन है, उसी तरह दर्जनों पुरुष मुन्नी की भक्ति में लीन हैं. एक ईश्वर की भक्ति में पागल है तो दर्जनों एक सामान्य मनुष्य की भक्ति में.


Kaise anaari se paala pada ji paala pada
Ho kaise anaari se paala pada ji paala pada
Bina rupaiye ke aake khada mere peechay pada
Popat na jaane mere peechay woh Saifu
(haye haye maar hi daalogi kya)
Popat na jaane mere peechay Saifu se leke Lambhu khada
Item yeh aam hui, darling tere liye
Item yeh aam hui, darling tere liye
Munni badnaam hui, darling tere liye

पर मुन्नी दैवीय  भक्ति में लीन होने के कारण मानवीय भक्ति को ज़्यादा महत्त्व नहीं देती. वह अपने सांसारिक भक्तों को दूर हटाने की कोशिश करती है. वह उन्हें छोटा महसूस कराने के लिए अपने काल्पनिक हाई-क्लास भक्तों का ज़िक्र करती है. फिर वह अपने भगवान् को बताती है  कि वो 'आयटम आम' बन गयी है, अर्थात वह देवत्व  में लीन होकर अपने शरीर की सीमाओं से बाहर आ गयी है. वह दुनिया के कण-कण में प्रवेश कर गयी है.


Hai tujh mein poori botal ka nasha, botal ka nasha
Hai tujh mein poori botal ka nasha, botal ka nasha
Kar de budaape ko kar de jawan re kar de jawan
Honthon pe gaali teri aankhein dulaali, haye
Honthon pe gaali teri aankhein dulaali re de hai jiya
Tu item bomb hui, darling tere liye
Munni badnaam hui, darling mere liye - 2 times
Munni ke gaal gulabi, nain sharabi, chaal nawabi re
Le zandu balm hui, darling tere liye
Munni badnaam hui, darling tere liye
Baat yeh aam hui, darling tere liye
Be-Hindustan hui, darling tere liye
Amiya se aam hui, darling mere liye
Le zandu balm hui, darling mere liye
Seenay mein hole hui, tere tere tere liye
Aale badnaam hui haanji haan tere liye
Le sareaam hui, darling tere liye
Darling tere liye x3

वो दर्जनों सांसारिक भक्त फिर से मुन्नी का प्रेम व आशीष पाने का प्रयत्न करते हैं. वो उसके महिमा गाते हैं. उसकी शक्ति का वर्णन करते हैं जो एक बूढ़े को युवक बना सकती है. उसकी दिव्य आँखों (दुनाली) और मनमोहक भाषा (गाली) के बारे में बोलते हैं.
पर मुन्नी तो अपने देवता के प्यार में पागल है रे! वो फिर से अपनी भक्ति की दुहाई देती है. वो बे-हिन्दुस्तान हो गयी है, अर्थात उसकी भक्ति के कारण देश, परिवार और समाज ने उसका त्याग कर दिया है. वो अमिया से आम हो गयी है, अर्थात एक सामान्य मनुष्य से बदलकर दैवीय भक्तिन बन गयी है. इसी दुहाई के साथ यह भक्ति-गीत समाप्त होता है.

यह अनोखा गीत सांसारिक मनुष्यों में गुप्त रूप से भक्तिभाव भरने का सुन्दर प्रयत्न है. हज़ारों वर्ष पहले वाल्मीकि से 'मरा' बुलवाकर उन्हें 'राम' की ओर प्रेरित किया गया था. आधुनिक युग में मुन्नी के गीत द्वारा मीरा के भक्ति-भाव को जगाने की कोशिश की गयी है. धन्य है यह गीत और इसका दोतरफा प्रभाव! 


कॉपीराईट: आलोक रंजन (कृपया लेखक का श्रेय चुराने का कष्ट ना करें)

3 comments:

इंदु पुरी गोस्वामी said...

हा हा हा दुष्ट! अब अपना परिचय ही जो प्याज के रूप में दे और अपनी फोटो की जगह प्याज की 'स्लाइस' की फोटो चिपका दे उनके लिए कुछ असंभव नही.
अरे अपना दिमाग तो इतनी दूर तक गया ही नही.एक तुम हो (आप नही लिखूंगी,क्यों ????मेरी मर्जी..हा हा हा ) मुन्नी में कृष्ण की अनन्य प्रेयसी को ढूँढ लिया.
अब तो ये बात सबको मालूम पद ही जानी चाहिए कि....सबका उद्धार होना पक्का.भगवान के लिए कहा भी गया है ना कि उसके भक्तों से प्यार करने वाले भी उनके प्रिय है तो....इधर तो सब बच्चे बूढ़े,जवान,घराती,बराती सब ईश्वर के प्रियजन की पंक्ती में आ गये हैं.
अपुने के गोस्वामीजी का तो रिज़र्वेशन पक्का.'डार्लिंग तेरे लिए सुनते ही गहरी नींद से उठ बैठते है साथ में उनके दोनों ट्विन्स पोते भी.
भाई तुम्हारे चरण कहाँ हैं? उद्धार का मार्ग दिखाने वाले तेरा जहाँ आबाद रहे.

Alok said...
This comment has been removed by the author.
Alok said...

Induji....lekhani meree thee...par shabd to swayam Krishna ke hain....main to baansuri tha...lay to Kanhaiya ne dee hai. Vaasudev yah sahan nahin kar paaye ki unki ananya bhaktin ko item girl kahkar pukara jaaye, isliye unhone mere dwara yah lekh likhwaya :)