Follow by Email

Wednesday, December 29, 2010

'ईश्क का मंजन' गीत का भावार्थ

प्रस्तुत मादक गीत हिन्दी सिनेमा जगत की आने वाली बहुचर्चित फिल्म 'यमला पगला दीवाना' से उद्धृत है. इसमें एक युवा स्त्री के प्रेम त्रिकोण को दर्शाया गया है. एक कोण पर वह खुद है, दूसरे कोण पर एक वृद्ध आशिक और तीसरे कोण पर वृद्धावस्था की ओर अग्रसर उसके दो बेटे हैं. 


O le gayi, le gayi, le gayi 
are baap ri, dilon ki saakhri 
zindagi le zin, karle tu jhim jhim 
maar ki chalti jaaye, dil kare haaye haaye 
jawan kar dil chali kyun kar ke tu bye bye 
garam garam tu jali jali, nari patakha kahan chali

गीत की शुरुआत किसी भी अन्य आयटम गीत की तरह होती है. दर्जनों छिछोरे एक युवा स्त्री के चारों ओर मधुमक्खियों की तरह भिनभिना रहे हैं और उसके सौंदर्य का वर्णन अपनी भाषा में कर रहे हैं. वो भांति-भांति के शब्दों से अपनी भावोदशा के बारे में भी बता रहे हैं. जब वो 'गरम गरम तू जली जली' शब्दों का प्रयोग करते हैं तो बोध होता है वो किसी ढाबे में काम करने वाले युवक हैं. 



pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya

अब नायिका उस वृद्ध पुरुष के प्रति अपनी भावनाएं व्यक्त करती है जो भीड़ के मध्य युवा दिखने की कोशिश कर रहा है. वो उस पुरुष के दिल को 'टिंकू जिया' कहकर पुकारती है. गौरतलब यह कि टिंकू छोटे बच्चों का नाम होता है. अर्थात उस बुजुर्ग का दिल अभी भी उम्र में छोटा है. जब यह टिंकू जिया अपनी आदतों से बाज नहीं आता तो वह सम्माननीय वृद्ध ईश्क का मंजन घिसते हैं. शायद यह कहकर नायिका उनके नक़ली  दाँतों की ओर इशारा करना चाहती है. 



sar pe masti chadhi, main deewana ho gaya 
jawani ka mehnga khazana ho gaya 
kaali aankhon se kitna hungama ho gaya 
jab jab dekhe tujhe tinku jiya, tinku jiya 
ishq ka engine jalaye jiya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya

अब वह वृद्ध पुरुष अपनी दशा का वर्णन करते हैं. साथ में दोनों बेटे भी सहयोग करते हैं. पिता और पुत्रों के मध्य यह आपसी सहयोग की भावना हमें महाभारत के भीष्म पितामह की याद दिलाती है जिन्होंने पिता शांतनु के युवा सत्यवती के प्रति प्रेम के कारण आजीवन ब्रह्मचारी रहने की प्रतिज्ञा की थी. पर यहाँ स्थिति थोड़ी विपरीत है. उन दो बेटों की ब्रह्मचर्य में बिलकुल भी रूचि नहीं दिखती. वो तो पिता के साथ-साथ नायिका के प्रेम में अपने हिस्से की कामना करते दिखते हैं. 



are o dum dum, paaon mein tham tham 
dhadhakta jaaye dil dhana dhan dham dham 
are o chikni, are o item 
are o beautiful, main bhi hoon handsome

पुनः वो दर्जनों छिछोरे युवक नायिका के प्रति अपने सम्मान का प्रदर्शन करते हैं. वो उसे चिकनी, आयटम और ब्यूटीफुल कहने के साथ-साथ खुद को हैंडसम कहना नहीं भूलते. इससे पता चलता है देश में दर्पणों का कितना बड़ा अकाल है. 



tinku hamara cinema ka deewana 
zor zor se gaaye gaana, zor zor se gaana 
tinku hamara cinema ka deewana 
zor zor se gaaye gaana, zor zor se gaana 
aisi villon jaisi baatein na kar 
ban ja heroin dhadhka de jiya 
joban pe daala hai taala piya, haan taala piya 
ishq ka manjan ghise hai piya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya

अब नायिका वृद्ध पुरुषों में आये परिवर्तनों की ओर हमारा ध्यान आकर्षित करती है. वह  बुजुर्ग सिनेमा के प्रेमपूर्ण  गीत गाकर  अपने खो  चुके यौवन को फिर से पाने की चेष्टा कर रहे हैं. इससे आहत पिता-पुत्र पलटकर जवाब देते हैं. वो बोलते हैं कि  नायिका का यह व्यवहार खलनायिका जैसा है. सदियों से होता आया है कि जब स्त्री पुरुष के प्रति बदले में प्रेम नहीं दिखाती तो पुरुष उसकी छवि बिगाड़ने की  कोशिश करते हैं. 



teekhi ki nazar aur qaatil adaayein 
saanjh range kone mein bulaayein 
teekhi ki nazar aur qaatil adaayein 
saanjh range kone mein bulaayein 
kone mein ek baar aa kar to dekh 
chilla ke bolegi, love you piya 
gappon ki baandhe tu kyun puliya, tu kyun puliya 
ishq ka manjan ghise hai piya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya 

अगली पंक्तियों का सौंदर्य देखते ही बनता है. नायिका बताती है कि वो उनकी असली मंशा भांप चुकी है. प्रेम के मुखौटे के पीछे छुपा वासना का दानव अब उसके सामने आ चुका है. इसकी प्रतिक्रया में वो पुरुष अपनी पुरानी आदत के अनुसार अपनी यौन शक्ति के बारे में बड़ी-बड़ी बातें करने लगते हैं. पर नायिका अनुभवी है. वो उन्हें कड़वे शब्दों में बताती  है कि इन डींगों का उसपर असर नहीं  पड़ने वाला. 



sar pe masti chadhi, main deewana ho gaya 
jawani ka mehnga khazana ho gaya 
kaali aankhon se kitna hungama ho gaya 
jab jab dekhe tujhe tinku jiya, tinku jiya 
ishq ka engine jalaye jiya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya 
pal pal na maane tinku jiya, haan tinku jiya 
ishq ka manjan ghise hai piya 
joban pe daala hai taala piya, haan taala piya 
ishq ka manjan ghise hai piya

नायिका के स्पष्ट बयान से वृद्ध पुरुष और वृद्धावस्था की ओर अग्रसर उसके पुत्र धरातल पर आ जाते हैं. वो पुनः अपने प्रेम की दुहाई देने लगते हैं. वो यह भी स्वीकार करते हैं कि वो अब जवानी का खज़ाना खो चुके हैं. पुरुष का बलशाली अहम् नारी के एक कटु शब्द के सामने चारों खाने चित्त हो जाता है. परन्तु नायिका अपना पुराना राग अलापती रहती है. वो उनके बुढापे की ओर इशारा करना नहीं भूलती.

यह लोकप्रिय गीत हमें इस बात से अवगत कराता है  कि उम्र के साथ पुरुषों की काम-भावना और युवा होती जाती है. गुलज़ार द्वारा लिखा 'दिल तो बच्चा है जी' और पुरानी फिल्म 'उम्र पचपन की दिल बचपन का' भी इसी बात पर प्रकाश डालते हैं. अंग्रेज़ी में भी कहा गया है - Men turn naughty at forty. ऐसे में युवा स्त्रियों का कर्त्तव्य बनता है कि वो उम्रदराज़ पुरुषों को उनकी उम्र का अहसास कराना ना भूले. 

3 comments:

Sonal Rastogi said...

baap re kahan se dimaag lagate ho.. jabardast

अजय कुमार झा said...

हा हा हा सर यदि सिर्फ़ ये कहूंगा कि फ़ाड डाला तो कम होगा ...इसलिए कह रहा हूं कि

चीथडा चीथडा कर डाला ..अब रफ़ूगर का बाप भी इसे रफ़ू नहीं कर सकता

हा हा हा टिंकू जिया ..

Alok said...

shukriya :)